क्लोरोफॉर्म के गुण उपयोग और जानकारी Chloroform in Hindi

क्लोरोफॉर्म के गुण उपयोग और जानकारी Chloroform in Hindi

 

क्लोरोफॉर्म क्या है (What is Chloroform)

क्लोरोफॉर्म एक कार्बनिक यौगिक है जिसका रासायनिक सूत्र CHCl3 होता है। इसके एक अणु में कार्बन का एक परमाणु, हाइड्रोजन का एक परमाणु और क्लोरीन के तीन परमाणु होते है। क्लोरोफॉर्म को ट्राइक्लोरोमेथेन और मिथाइल ट्राइक्लोराइड के नाम से भी जाना जाता है । क्लोरोफॉर्म एक रंगहीन, वाष्पशील, तरल है, जिसमें ईथर जैसी गंध होती है। पूर्व में शल्य चिकित्सा के दौरान मरीज को बेहोश करने के लिए इसका उपयोग श्वास लेने वाले एनेस्थेटिक के रूप में किया जाता था, लेकिन आज इसका इस्तेमाल नहीं किया जाता है। आज क्लोरोफॉर्म का प्राथमिक उपयोग उद्योग में होता है, जहां इसका उपयोग अन्य रसायनो को बनाने के लिए किया जाता है।  

क्लोरोफॉर्म-के-गुण, क्लोरोफॉर्म-के-उपयोग, क्लोरोफॉर्म-की-जानकारी, Chloroform-in-Hindi, Chloroform-uses-in-Hindi, Chloroform-properties-in-Hindi

क्लोरोफॉर्म के गुण (Properties of Chloroform in Hindi)

  • क्लोरोफॉर्म एक रंगहीन घना (Dense) तरल है जिसमें एक सुखद ईथर जैसी गंध होती है, और थोड़ा मीठा स्वाद होता है।
  • इसका घनत्व 1.49 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर होता है।
  • सामान्य तापमान पर क्लोरोफॉर्म तरल अवस्था मे पाया जाता है, इसका गलनांक (Melting Point) -63.5 डिग्री सेल्सियस और इसका क्वथनांक (Boiling Point) 61.2 डिग्री सेल्सियस होता है।
  • यह केवल बहुत अधिक तापमान पर ही जलता है।
  • यह हवा मे बड़ी आसानी से वाष्पीकृत हो जाती है।
  • हवा में मौजूद क्लोरोफॉर्म धीरे-धीरे विघटित होकर फॉस्जीन और हाइड्रोजन क्लोराइड में टूट जाती है, ये दोनों ही गैसे विषैली होती है।
  • यह पानी में बड़ी आसानी से घुल जाता है, पानी में घुलकर इसकी कुछ मात्रा अन्य रसायनो में परिवर्तित हो जाती है।
  • पानी में घुलकर क्लोरोफॉर्म भूजल में मिल सकता है, जहाँ पर यह लम्बे समय तक बना रह सकता है।

 

क्लोरोफॉर्म के उपयोग (Uses of Chloroform in Hindi)

  • क्लोरोफॉर्म का उपयोग विलायक के रूप में किया जाता है, एक ऐसा पदार्थ जो अन्य पदार्थों को घुलने में मदद करता है।
  • क्लोरोफॉर्म का उपयोग कागज और बोर्ड उद्योगों, कीटनाशक उद्योग और फिल्म निर्माण में किया जाता है।
  • क्लोरोफॉर्म का उपयोग लाख, फर्श पॉलिश, रेजिन, चिपकने वाले, अल्कलॉइड, वसा, तेल और रबर के लिए विलायक के रूप में किया जाता है।
  • क्लोरोफॉर्म का उपयोग फ्लूरोकार्बन22 नाम का एक रेफ्रिजरेंट बनाने में किया जाता है।
  •  1900 के दशक के मध्य तक, चिकित्सा प्रक्रियाओं के दौरान दर्द को कम करने के लिए क्लोरोफॉर्म का उपयोग एनेस्थेटिक के रूप में किया जाता था। आज, इसके हानिकारक प्रभावों के कारण इसका इस तरह से उपयोग नहीं किया जाता है।

 

अन्य जानकारी (Other information about Chloroform)

  • क्लोरीन को पानी में मिलाने पर कुछ मात्रा में क्लोरोफॉर्म का निर्माण होता है। इसलिए पानी के क्लोरीनीकरण के उपोत्पाद के रूप में, क्लोरोफॉर्म क्लोरीनयुक्त पानी में थोड़ी मात्रा में मौजूद हो सकता है।
  • क्लोरोफॉर्म का एक्सपोजर हानिकारक है। क्लोरोफॉर्म यकृत को नुकसान पहुंचाता है, जिससे हेपेटाइटिस होता है, और यह गुर्दे, मस्तिष्क, हृदय और अस्थि मज्जा को भी नुकसान पहुंचा सकता है। क्लोरोफॉर्म के संपर्क में आने से श्वसन तंत्र को भी नुक्सान पहुँचता है जिससे श्वसन अवसाद, न्यूमोनाइटिस और फुफ्फुसीय एडिमा (Pulmonary edema) जैसे गंभीर रोग हो सकते हैं।
  • क्लोरोफॉर्म केंद्रीय तंत्रिका तंत्र के लिए विषैला होता है, यह व्यक्ति को बेहोशी का कारण बनता है और यहां तक ​​कि इसकी उच्च खुराक व्यक्ति के लिए अत्यंत घातक हो सकटी है, जिससे मृत्यु भी हो सकती है।
  • यदि कोई भी व्यक्ति जो क्लोरोफॉर्म के उच्च स्तर के संपर्क में आता है, तो उसे तुरंत जोखिम के स्रोत से हटा दिया जाना चाहिए। क्लोरोफॉर्म के संपर्क में आने वाले कपड़ों को हटाकर फेंक देना चाहिए। क्लोरोफॉर्म से दूषित त्वचा और आंखों को साफ पानी से धोना चाहिए और तुरंत चिकित्सा की तलाश करनी चाहिए।
  • वर्तमान में कुछ परीक्षण रक्त, ऊतक और आपके द्वारा साँस छोड़ने वाली हवा में क्लोरोफॉर्म के स्तर को निर्धारित कर सकते हैं। ये परीक्षण एक्सपोजर के थोड़े समय बाद ही किए जाने चाहिए क्योंकि क्लोरोफॉर्म शरीर से जल्दी निकल जाता है।

  यह भी पढ़ें 

error: Content is protected !!