अम्ल क्या होता है, अम्ल के गुण, अम्ल के प्रकार Acids in Hindi

एसिड्स के प्रकार गुण और अन्य जानकारी Acids in Hindi

 

अम्ल क्या होता है 

अम्ल या एसिड एक रासायनिक पदार्थ होता है, जो सामान्यतः एक तरल होता है, जिसका एक अवयव हाइड्रोजन होता है। एसिड्स रासायनिक प्रतिक्रियाओं में एक हाइड्रोजन प्रोटोन को डोनेट कर सकते हैं या इलेक्ट्रॉन की एक जोड़ी को स्वीकार कर सकते है। एसिड्स पानी में हाइड्रोजन आयन देते है, तथा लवण बनाने के लिए अन्य पदार्थों के साथ प्रतिक्रिया कर सकते है। 
 

एसिड के गुण 

एसिड्स में कुछ गुण पाए जाते है जो सभी एसिड्स में समान होते है, इनमे से कुछ गुण इस प्रकार है :-
  • सभी प्रकार के अम्ल में हाइड्रोजन उपस्थित होता है
  • अम्ल नीले लिटमस को लाल कर देते है ।
  • अम्लों का PH स्तर 0 – 6 बीच होता है। 
  • अम्ल स्वाद में खट्टे होते है। 
  • सक्रीय धातुओं से प्रतिक्रिया होने पर एसिड हाइड्रोजन गैस उत्पन्न करते है। 
  • कार्बोनेट के साथ प्रतिक्रिया होने पर अम्ल कार्बन डाई ऑक्साइड गैस उत्पन्न करते है। 
  • अधिकांश एसिड संक्षारक प्रकृति के होते है, अर्ताथ वे धातुओं पर जंग लगाने या उन्हें गलाने की क्षमता रखते है। 
  • एसिड, क्षार के साथ प्रतिक्रिया करने पर लवण और जल बनाते है, इस प्रतिक्रिया में एसिड क्षार के भी सभी रासायनिक गुणों को नस्ट कर देते है तथा अपनी अम्लीयता भी खो देते है।  

सामान्य जीवन में अम्ल के उदाहरण 

हमारे सामान्य जीवन में एसिड या अम्ल के कई उदाहरण देख सकते है जैसे सभी खट्टे फल और खाद्य पदार्थो का खट्टा स्वाद एसिड के कारण ही होता है जैसे नींबू, संतरा आदि में साइट्रिक एसिड पाया जाता है, सिरके में एसिटिक एसिड पाया जाता है, एप्पल (सेब) में मेलिक (Malic) एसिड पाया जाता है, चाय में टैनिक (Tannic) एसिड पाया जाता है, कार्बोनेटेड सोडा में फास्फोरिक एसिड होता है, इसके अलावा हमारे शरीर में भोजन को पचाने के लिए हाइड्रोक्लोरिक एसिड का उपयोग किया जाता है । 
 
खाद्य पदार्थो के अलावा भी कई ऐसे एसिड्स होते है जिनका उपयोग हमारे द्वारा घरेलु या औद्योगिक रूप से किया जाता है जैसे सल्फ्यूरिक एसिड, नाइट्रिक एसिड, हाइड्रोक्लोरिक एसिड, हाइड्रोआयोडिक एसिड, हाइड्रोब्रोमिक एसिड, क्लोरिक एसिड, अम्लराज (Aqua Regia) आदि। 
 

अम्ल कितने प्रकार के होते हैं 

अम्ल को उनके स्रोत, क्षमता, सांद्रता, ऑक्सीजन की उपस्थिति और क्षारकता के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। 
 

स्रोत के आधार पर

स्रोत के आधार पर अम्ल दो प्रकार के होते हैं :-
 

कार्बनिक अम्ल  

ऐसे अम्ल जो पौधों और जानवरों से प्राप्त होते है, तथा जिनमें कार्बन उपस्थित होता है उन्हें कार्बनिक एसिड कहा जाता है जैसे साइटिक एसिड C6H8O7, एसिटिक एसिड CH3COOH आदि। 
 

अकार्बनिक अम्ल 

ऐसे अम्ल जो खनिज पदार्थों से प्राप्त होते है, तथा जिनमे कार्बन उपस्थित नहीं होता उन्हें अकार्बनिक एसिड कहा जाता है, अकार्बनिक एसिड्स को खनिज अम्ल भी कहा जाता है, उदाहरण के लिए नाइट्रिक एसिड HNO3, हाइड्रोक्लोरिक एसिड HCL, सल्फ्यूरिक एसिड H2SO4, बोरिक एसिड H3BO3आदि। 
 
 

सांद्रता के आधार पर

सांद्रता के आधार पर अम्ल दो प्रकार के होते है :- 
 

सांद्र अम्ल

जब किसी अम्ल और जल के घोल में अम्ल जल की अपेक्षा उच्च प्रतिशत में घुलता है, तो उसे सांद्र अम्ल कहते है जैसे सांद्र सल्फ्यूरिक एसिड। 
 

तनु अम्ल 

जब किसी अम्ल और जल के घोल में अम्ल जल की अपेक्षा कम प्रतिशत में घुलता है, तो उसे तनु अम्ल कहते है, जैसे तनु सल्फ्यूरिक एसिड। 
 

ऑक्सीजन की उपस्थिति के आधार पर 

ऑक्सीजन की उपस्थिति के आधार पर अम्ल दो प्रकार के होते है:-
 

ऑक्सी-एसिड 

वे अम्ल जिनकी संरचना में ऑक्सीजन उपस्थित होती है उन्हें ऑक्सी-एसिड  कहा जाता है जैसे :- नाइट्रिक एसिड HNO3, बोरिक एसिड H3BO3 आदि 
 

हाइड्रासिड 

वे अम्ल जिनकी संरचना में ऑक्सीजन उपस्थित नहीं होती उन्हें हाइड्रासिड कहा जाता है जैसे हाइड्रो क्लोरिक एसिड HCL, हाइड्रोब्रोमिक एसिड HBr आदि 
 

प्रबलता के आधार पर 

प्रबलता के आधार पर अम्ल दो प्रकार होते है :-

प्रबल अम्ल 

ऐसे अम्ल जो जल में लगभग पूरी तरह घुल जाते है उन्हें प्रबल अम्ल कहा जाता है जैसे सल्फ्यूरिक एसिड, नाइट्रिक एसिड आदि 
 

दुर्बल अम्ल 

ऐसे अम्ल जी जल में पूरी तरह  घुलते या बहुत कम घुलते है उन्हें दुर्बल अम्ल कहा जाता है, ऐसे अम्ल आमतौर पर खाद्य पदार्थों में पाए जाते है जैसे साइट्रिक एसिड, एसिटिक एसिड आदि। 
 

क्षारकता के आधार पर 

किसी क्षार से प्रतिक्रिया होने पर हाइड्रोजन आयनों की वह संख्या जो एक अम्ल, क्षार को दान कर सकता है उसे क्षारकता कहते है, क्षारकता के आधार पर अम्ल तीन प्रकार के होते है :-
 

मोनोबैसिक अम्ल

वे अम्ल जो किसी क्षार से प्रतिक्रिया होने पर केवल एक ही हाइड्रोजन आयन दान कर सकते है उन्हें मोनोबैसिक एसिड कहा जाता है जैसे हाइड्रोक्लोरिक एसिड HCL। 
 

डिबासिक एसिड 

वे अम्ल जो किसी क्षार से प्रतिक्रिया होने पर दो हाइड्रोजन आयनों का दान कर सकते है उन्हें डिबासिक एसिड कहा जाता है जैसे सल्फ्यूरिक एसिड H2SO4
 

ट्राईबेसिक एसिड 

वे अम्ल जो किसी क्षार से प्रतिक्रिया होने पर तीन हाइड्रोजन आयनों का दान कर सकते है उन्हें ट्राईबेसिक एसिड कहा जाता है जैसे फोस्फोरिक एसिड H3PO4। 

 

यह भी पढ़ें 

मीथेन के गुण उपयोग और जानकारी Methane Gas in Hindi

इथेनॉल (Ethanol) के गुण उपयोग और अन्य जानकारी Ethanol in Hindi

अमोनिया के गुण और उपयोग Ammonia in Hindi

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की जानकारी International Space Station in Hindi

कार्बन फाइबर क्या है, फायदे नुकसान उपयोग और जानकरी Carbon Fiber in Hindi

Leave a Comment

error: Content is protected !!