इट्रियम (Yttrium) धातु के गुण, उपयोग और रोचक जानकारी Yttrium information in Hindi

इट्रियम (Yttrium) धातु के गुण इसके उपयोग और रोचक जानकारी 

Yttrium-ke-gun, Yttrium-ke-upyog, Yttrium-ki-Jankari, Yttrium-information-in-Hindi, Yttrium-uses-in-Hindi, इट्रियम-धातु-के-गुण, इट्रियम-धातु-के-उपयोग, इट्रियम-धातु-की-जानकारी
Yttrium Metal in Hindi

 

इट्रियम (Yttrium) धातु का परिचय 

इट्रियम (Yttrium) धातु का वर्गीकरण ट्रांजीशन मेटल (Transition Metal) के रूप में किया जाता है, तथा रासायनिक रूप से इट्रियम एक तत्व है। इट्रियम का घनत्व 4.47 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर होता है। इट्रियम का परमाणु भार 88.9058 AMU, परमाणु संख्या 39 तथा इसका सिंबल (Y) होता है। आवर्त सारणी (Periodic Table) में इट्रियम ग्रुप 3, पीरियड 5 और ब्लॉक (D) में स्थित होता है। इसके परमाणु में 39 इलेक्ट्रान, 39 प्रोटोन, 50 न्यूट्रॉन तथा 5 एनर्जी लेवल होते है। इट्रियम सामान्य तापमान पर ठोस अवस्था में पाया जाता है, इसका गलनांक (पिघलने का तापमान) 1522 डिग्री सेल्सियस (2772 डिग्री फेरेनाइट) और इसका क्वथनांक (उबलने का तापमान) 3345 डिग्री सेल्सियस (6053 डिग्री फेरेनाइट) होता है, तथा इससे अधिक तापमान पर इट्रियम धातु गैस अवस्था में पायी जाती है। 
 
इट्रियम की खोज जोहन गाडोलिन (Johan Gadolin) ने 1794 में की थी।
 
 
Yttrium-ke-upyog, Yttrium-ki-Jankari, Yttrium-information-in-Hindi, Yttrium-uses-in-Hindi, इट्रियम-धातु-के-गुण, इट्रियम-धातु-के-उपयोग, इट्रियम-धातु-की-जानकारी
Yttrium Metal information in Hindi
 

इट्रियम (Yttrium) धातु के गुण 

  • इट्रियम सिल्वर रंग की चमकदार धातु है।
  • इट्रियम एक नर्म धातु होती है।  
  • हवा के संपर्क में आने पर इट्रियम धातु पर ऑक्साइड की परत जम जाती है जो इसे सुरक्षा प्रदान करती है और इसे जंक लगने से बचाती है।  
  • पानी के संपर्क में आने पर इट्रियम धातु हाइड्रोजन गैस उत्पन्न करता है, ठन्डे पानी में यह प्रतिक्रिया धीमी होती है जबकि गर्म पानी में यह प्रतिक्रिया तेजी से होती है।  
  • इट्रियम हवा में बहुत स्थिर होती है, जबकि गर्म होने पर इसका तेजी से ऑक्सीकरण होने लगता है। 
  • हवा में 400 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान पर गर्म होने पर इट्रियम धातु जलने लगती है। 
  • उच्च तापमान पर हवा में इट्रियम पाउडर विस्फोटक प्रतिक्रिया करता है।    
 

इट्रियम (Yttrium) मेटल के उपयोग 

  • इट्रियम मेटल का उपयोग एलुमिनियम और मैग्नीशियम धातुओं के साथ मिश्र धातु बनाने के लिए किया जाता है, इन धातुओं में इट्रियम धातु मिलाने पर इनकी स्ट्रेंथ में वृद्धि होती है। 
  • पुराने समय में इट्रियम ऑक्साइड का उपयोग रंगीन टेलीविजन के लिए लाल फास्फोर बनाने के लिए किया जाता था।
  • इट्रियम और लोहे से बने गार्नेट (Y3Fe5O12) का उपयोग राडार और माइक्रोवेव संचार उपकरणों के लिए माइक्रोवेव फ़िल्टर बनाने के लिए किया जाता है। 
  • इट्रियम और एलुमिनियम से बने गार्नेट (Y3Al5O12) का उपयोग इंफ्रारेड लेजर में, सफ़ेद LED लाइटों में और गहनों में नकली हिरे के रूप में किया जाता है।   
  • इट्रियम का उपयोग एथिन पोलीमराइजेशन में उत्प्रेरक के रूप में किया जाता है। 
  • इट्रियम ऑक्साइड कांच में किया जाता है, इससे कांच हीट और शॉक रेसिस्टेंट हो जाता है। इस प्रकार के कांच का उपयोग कैमरा लेंस बनाने में किया जाता है। 

  • इट्रियम ऑक्साइड का उपयोग सुपर कंडकटर बनाने के लिए किया जाता है। 
  • इट्रियम मेटल अम्ल और क्षार दोनों घुल जाता है। 
  • इट्रियम के रेडियोएक्टिव आइसोटोप इट्रियम-90 का उपयोग चिकित्सा में लिवर कैंसर के उपचार किया जाता है।  
 

इट्रियम (Yttrium) मेटल की रोचक जानकारी 

  • इट्रियम पृथ्वी की पपड़ी में 29वॉ सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला तत्व है।  
  • इट्रियम मेटल प्रकृति में  मुक्त अवस्था में नहीं पाया जाता, यह दुर्लभ खनिजों और यूरेनियम अयस्कों में पाया जाता है। 
  • धातुएँ उष्मा की अच्छी संवाहक होती है परन्तु इट्रियम, क्रोमियम और एलुमिनियम से बनी मिश्रधातु उष्मा प्रतिरोधी होती है। 
  • चन्द्रमा से लायी गयी चट्टानों में इट्रियम मेटल उच्च मात्रा में पाया गया है। 
  • इट्रियम मेटल पर काम करने दौरान यह बहुत हानिकारक है, यदि इसके सूक्ष्म कण और इससे निकलने वाली गैसें सांस में चली जाये तो इससे गले और फेफड़ों से सम्बंधित गंभीर रोग हो सकते है, तथा यह फेफड़ों के कैंसर का कारण भी बन सकता है।  
 

Leave a Comment

error: Content is protected !!